Blockchain Technology in Hindi || ब्‍लॉकचेन तकनीक क्या है?

Blockchain Technology in Hindi || ब्‍लॉकचेन तकनीक क्या है?
Spread the love

Blockchain – क्या आपने ब्लॉकचैन का नाम सुना है अगर नहीं तो कोई बात नहीं।

 

आप बिटकॉइन के बारे में तो पक्के से जानते ही होंगे। 

 

तो बस Blockchain को समझना आपके लिए आसान होगा क्योंकि बिटकॉइन की रिकॉर्ड कीपिंग टेक्नोलॉजी को ब्लॉकचेन कहते हैं। 

 

और यह बिटकॉइन जैसी क्रिप्टो करेंसी के अलावा बैंकिंग या इन्वेस्टमेंट की दूसरी फॉर्म से भी संबंधित करते हैं।

 

इसलिए बेहतर यह होगा के आप इसके बारे में जान ले और  इसके लिए आपको  यह लेख या आर्टिकल पूरा पढ़ना पड़ेगा।

 

तो चलिए शुरू करते हैं और यह जानते हैं ब्लॉकचेन होता क्या है?

ब्‍लॉकचेन तकनीक क्या है ||
(Blockchain Technology in Hindi)

Blockchain Defination

एक Blockchain कंप्यूटर के एक नेटवर्क द्वारा बनाए गए लेन-देन का एक डिजिटल खाता बही याने कि Digital Ledger है जिससे हैक करना या बदलना मुश्किल हो जाता है। 

 

यह तकनीक व्यक्तियों को सरकार, बैंक या अन्य तीसरे पक्ष जैसे किसी मध्यस्थ के बिना सीधे एक-दूसरे से लेन-देन करने का एक सुरक्षित तरीका प्रदान करती है।

 

रिकॉर्ड की बढ़ती हुई लिस्ट, जिसे ब्लॉक कहा जाता है, क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करके एक साथ जुडी हुई रहती है। 

 

प्रत्येक लेन-देन स्वतंत्र रूप से पीयर-टू-पीयर कंप्यूटर नेटवर्क द्वारा सत्यापित किया जाता है, समय-मुद्रित (Time Stamped) और डेटा की बढ़ती चेन में जोड़ा जाता है। 

 

एक बार रिकॉर्ड करने के बाद, डेटा को बदला नहीं जा सकता है।

बिटकॉइन, एथेरियम और अन्य क्रिप्टोकरेंसी के बढ़ते उपयोग के साथ लोकप्रिय होने पर,

ब्लॉकचेन तकनीक में कानूनी अनुबंधों (Legal Contracts), संपत्ति की बिक्री, मेडिकल रिकॉर्ड और किसी भी अन्य उद्योग के लिए आशाजनक अनुप्रयोग हैं,

जिन्हें कार्यों या लेनदेन की एक श्रृंखला को अधिकार देना और रिकॉर्ड करने की आवश्यकता होती है।

समझते हैं Blockchain Technology आसान शब्दों में

असल में ब्लॉकचेन एक तरह का डेटाबेस है अब कई लोगों के मन में ख्याल आ रहा होगा कि आखिर यह डेटाबेस क्या चीज  है।

 

डेटाबेस एक तरह का कलेक्शन ऑफ इंफॉर्मेशन होता है।

 

मतलब जानकारी का एक संग्रह होता है जो कंप्यूटर सिस्टम पर इलेक्ट्रॉनिक रूप से स्टोर रहता है।

 

इस डेटाबेस में डाटा और इंफॉर्मेशन एक टेबल फॉरमैट में स्टोर रहते हैं ताकि किसी डाटा  की सर्चिंग और फिल्टरिंग आसानी से करी जा सके।  

 

यू तो स्प्रेडशीट भी एक टेबल फॉर्मेट में होती है

 

पर ये डेटाबेस से अलग इसिलिए होती है क्योंकि स्प्रेडशीट किसी एक व्यक्ति के लिए डिजाइन कि जाति है

जबकी डेटाबेस का उपयोग कितने भी यूजर्स एक बार में कर सकते हैं।

 

ब्लॉकचैन का उद्देश्य किसी भी जानकारी को रिकॉर्ड और वितरित करना है लेकिन संपादित करना की नहीं।

 

अब ये भी जानते हैं की इसे ब्लॉकचेन क्यों कहा जाता है। 

 

तो इसका मतलब ये है की ब्लॉकचेन की जानकारी को ग्रुप्स में मैं कलेक्ट करता हूं और ग्रुप्स को ब्लाक भी कहता हूं।

 

हर एक ब्लॉक में लिमिटेड स्टोरेज कैपेसिटी होती है। 

 

इसिलिए जब एक ब्लॉक भर जाता है तो वो पहले भरे हुए ब्लॉक से जाकर जुड़ जाता है।

 

 

ऐसे एक डेटा की चेन बन जाती है और इसिलिए इसे ब्लॉकचेन कहा जाता है।

किन्होने Blockchain Technology को

Invent किया है?

ये तकनीक सबसे पहले 1991 स्टुअर्ट हैबर और डब्ल्यू.स्कॉट शोरनेट्टा के जरीये सामने आई थी। 

 

लेकिन ब्लॉकचेन को अपनी पहली वास्तविक दुनिया एप्लिकेशन 2009 में बिटकॉइन के लॉन्च के साथ ही मिली।

 

ब्लॉकचेन में दुनिया भर में रिकॉर्ड-कीपिंग सिस्टम का आधार बनने की क्षमता है, लेकिन इसे सिर्फ 10 साल पहले लॉन्च किया गया था। 

 

इसे सतोशी नाकामोटो के छद्म नाम (pseudo name)  के तहत अज्ञात व्यक्तियों द्वारा ऑनलाइन नकद मुद्रा बिटकॉइन के पीछे बनाया गया था।

Blockchain कितना Secure है?

क्या ब्लॉकचेन सुरक्षित है?

 

ब्लॉकचैन रिकॉर्ड की लगातार बढ़ती सूची है जिसे ब्लॉक कहा जाता है जो क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करके जुड़े और सुरक्षित होते हैं।

 

 

 

चूंकि यह एक विकेंद्रीकृत प्रणाली है,

इसलिए इसे नेटवर्क पर कई प्रतिभागियों द्वारा बनाए रखा जाता है जो डेटा को सुरक्षित रखने के लिए जिम्मेदार होते हैं।

 

लेकिन, क्या आप जानकारी की अच्छी देखभाल करने के लिए अजनबियों के झुंड पर भरोसा कर सकते हैं?

 

खैर, इन अभिलेखों को रखने के लिए जिम्मेदार पारंपरिक संस्थानों के साथ अंतर के रूप में ब्लॉकचैन को अपरिवर्तनीय होने के लिए डिज़ाइन किया गया था।

 

यह इस तरह काम करता है:

 

ब्लॉकचैन पर लिखे गए प्रत्येक रिकॉर्ड को एक अद्वितीय क्रिप्टोग्राफिक कुंजी द्वारा सुरक्षित किया जाता है।

 

यह कुंजी वस्तुतः अप्राप्य है।

 

मतलब इस्को हैक कर पाना बहुत ही ज्यादा मुश्किल है।

 

जब एक ही ब्लॉक पर एक नया रिकॉर्ड लिखा जाता है, तो उसके पिछले रिकॉर्ड से सब कुछ, इसकी सामग्री और इसकी कुंजी सहित, दूसरे रिकॉर्ड की कुंजी उत्पन्न करने के लिए एक सूत्र में डाल दिया जाता है।

 

यह बातचीत निर्भरता पैदा करती है। इस्का का अर्थ है ये है की ये एक दसरे पर निर्भर हो जाती है।

 

जब कोई तीसरा रिकॉर्ड बनाया जाता है, तो पहले दो रिकॉर्ड की सामग्री और कुंजियों को तीसरी कुंजी को स्थापित करने के लिए एक सूत्र में डाल दिया जाता है।

 

इस्का का अर्थ है ये है की जब तीसरा रिकॉर्ड बनाया जाता है तो पहले दोनो रिकॉर्ड के जो भी डेटा और उसका कुंजी होता है वो तीसरी कुंजी को बनाने के लिए इस्तेमाल होता है।

 

यह निर्भरता (मतलब एक दुसरे पर निर्भर होना) अनिवार्य रूप से सभी अभिलेखों को एक साथ जोड़ता है।

 

फिर वही प्रक्रिया तब तक दोहराई जाती है जब तक कि ब्लॉक भर न जाए।

 

इस तरह, बनाया गया प्रत्येक रिकॉर्ड इतिहास को बदलने के लिए नाटकीय रूप से अधिक जटिल बना देता है,

 

 

क्योंकि एक खुले नेटवर्क के रूप में, कोई भी यह सत्यापित कर सकता है कि इतिहास सही है या नहीं, पिछले ब्लॉकों को देखकर।

क्यूँ हमें Blockchain के विषय में जानना चाहिए?

ब्लॉकचेन तकनीक की लोकप्रियता हर गुजरते दिन के साथ बढ़ती जा रही है, और इसलिए ब्लॉकचेन सीखने के कारण। 

 

हालाँकि, ब्लॉकचेन तकनीक के बारे में ज्ञान क्रिप्टोकरेंसी के दायरे से आगे नहीं बढ़ पाया है। 

 

दूसरी ओर, दुनिया भर के विभिन्न उद्योगों में ब्लॉकचेन तकनीक में सुधार हो रहा है।

 

 

 

2008 के वैश्विक वित्तीय संकट के बाद पेश की गई, ब्लॉकचेन तकनीक ने कंप्यूटिंग से संबंधित कई पारंपरिक धारणाओं को संशोधित किया है। 

 

इसलिए, विभिन्न क्षेत्रों में ब्लॉकचेन तकनीक और उसके अनुप्रयोगों को सीखने के कई कारण हैं।

 

ब्लॉकचैन अनुप्रयोगों की धीरे-धीरे बढ़ती लोकप्रियता भी ब्लॉकचैन में कैरियर के अवसरों की संभावना को इंगित करती है।

 

मतलब भविष्य में यह तकनीक कहां-कहां इस्तेमाल हो सकती है।

 

दूसरी ओर, शुरुआती लोगों के लिए संदेह पर ध्यान केंद्रित करना उचित है जैसे कि ‘ब्लॉकचैन सीखने लायक है’। 

 

अगर आपको इस तरह के संदेह हो रहे हैं, तो आप सही रास्ते पर हैं! 

 

नीचे हम कुछ बातें बताएंगे की आखिर क्यों आपको ब्लॉकचेन सीखना चाहिए या इसके बारे में पता होना चाहिए।

 

हो सकता है इन्हें पढ़ने के बाद आपके मन में चल रहे हैं सभी समस्याएं के जवाब मिल जाएंगे। 

 

सभी नहीं बस जो समस्याएं ब्लॉकचैन से संबंधित है केवल उनके समाधान मिलेंगे

बाकी जिंदगी की समस्याओं के समाधान आपको खुद ढूंढ़ना पड़ेगा।

 

 

 सबसे महत्वपूर्ण, कारण आपको ब्लॉकचेन तकनीक सीखने के लिए एक मजबूत नींव और प्रेरणा विकसित करने में मदद कर सकते हैं।

ब्लॉकचैन सीखने के प्रमुख कारण :-

 

  1. कैरियर के अवसरों का व्यापक वर्गीकरण

 

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी जो है वो अभी भी स्टार्टिंग स्टेज पर है। 

 

और काई महान अनुभव लोग इसमे भी शुरू कर चुके होंगे आगे बढ़ना उनको चुल जो कट्टी है अब रहने की।

 

तो मेरा मन्ना ये है की जीतना टाइम वेस्ट आप ये सोचने में लगाएंगे की क्या मुझे ब्लॉक चेन टेक्नोलॉजी के बारे में पता होना जरुरी है या नहीं उतना ही आप औरो से पीछे होते चले जाएंगे।

 

 

  1. ब्लॉकचैन में नौकरी की भूमिकाओं की विविधता

 

अगला सबसे जरुरी कारण ब्लॉकचेन तकनीक के बारे में सीखने का ये है कि

ब्लॉकचेन से जुडी और कोन सी फील्ड है जो इसमे काम करता है।

 

ब्लॉकचेन न केवल विविध उद्योगों को बल्कि विभिन्न तकनीकी भूमिकाओं को भी कवर करता है।

 

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि दसरे बिजनेस और टेक्नोलॉजी ब्लॉकचेन तकनीक का उपयोग करने से आशाजनक लाभ मिल सकते हैं।

 

इसलिय ब्लॉकचेन की स्किल्स न केवल किसी विशेष तकनीकी भूमिका में किसी व्यक्ति की विशेषज्ञता में सुधार करता है ,

 

बल्कि व्यावसायिक मूल्य प्रदान करने की उनकी क्षमता को भी बढ़ाता है।

 

  1. शासन प्रणाली में ब्लॉकचेन को अपनाना

 

जैसा कि आप सब देख ही रहे हैं की ब्लॉकचेन या क्रिप्टो करेंसी कितनी तेजी से बढ़ती जा रही है। 

 

तो हो सकता है आने वाले समय में सरकार नई नीतियों पर काम करें

 

और ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी को अपने काम करने के तरीकों पर अपनाएं। 

 

अगर यह हो गया तो सरकार को कई सरकारी कर्मचारी चाहिए होंगे जो उन्हें ब्लॉकचेन को मेंटेन करने में तथा उसकी सुरक्षा बढ़ाने में उनके लिए काम करें।

 

इसके लिए हो सकता है कई नौकरियां या कई ऑफर मिले तो यह भी एक कारण हो सकता है  ब्लॉकचेन सीखने का आपके लिए। 

 

  1. फ्यूचरिस्टिक टेक्नोलॉजी के साथ भागीदारी का अनुभव

 

जिस रफ्तार से टेक्नोलॉजी बढ़ती जा रही है आने वाले समय में  ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी हर जगह दिखाई देगी ,

क्योंकि या पारदर्शी   याने की ट्रांसपेरेंट और ज्यादा सुरक्षित मानी गई है। 

 

तथा भविष्य में  इसका बहुत उपयोग होने वाला है।

 

एक बार ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का सही उपयोग होने लगे तो हो सकता है ,

पको कई जगह अपने ओरिजिनल डॉक्यूमेंट  दिखाने की जरूरत ना पड़े  ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के जरिए क्या काम  आसानी से हो जाएगा।

 

  1. साइबर सुरक्षा में करियर

 

जैसा कि हम लोग जानते ही हैं कि किसी भी चीज का  अच्छे या बुरे दोनों पहलू होते हैं। 

 

जहां पर हम सोच रहे हैं कि ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी हमारे लिए अधिक फायदेमंद होगी ,

हीं पर कुछ लोग इसमें भी फ्रॉड करने के तरीके ढूंढ निकालेंगे। 

 

तथा इसकी सुरक्षा के लिए किसी ना किसी की आवश्यकता अवश्य पड़ेगी। 

 

तो साइबर सुरक्षा में करियर के कई रास्ते खुल जाएंगे।

 

 

 मेरी माने तो जितना हो सके इसके सुरक्षा के बारे में सीख लीजिए ताकि आपके लिए जॉब  पाना या पैसे कमाना आसान हो जाए।

Internet Technology vs Blockchain Technology

Blochchain Vs Internet

सबसे पहले, हम जानते हैं कि ब्लॉकचेन तकनीक और इंटरनेट दोनों ही कनेक्टिविटी के लिए प्रोटोकॉल का वर्णन करते हैं। 

 

हालाँकि, कनेक्टिविटी का प्रकार भिन्न होता है। 

 

इंटरनेट के साथ, अब आपके पास जानकारी को सुरक्षित रूप से साझा करने के लिए अपनी किसी भी पसंद से कनेक्ट करने की क्षमता है।

 

जिन लोगों को इस जानकारी को देखने की जरूरत है,

 

वे एक्सचेंज में शामिल दो पक्ष हैं,

और उनके बीच सूचना के प्रवाह के लिए केवल कुछ रास्ता होना चाहिए।

 

ब्लॉकचैन के साथ, अब आपके पास किसी जानकरी को सुरक्षित रूप से साझा करने के लिए किसी से भी जुड़ने की क्षमता है,

 

लेकिन मूल्य के आदान-प्रदान को नेटवर्क पर सभी द्वारा देखा जाना चाहिए। 

 

यदि आपके पास सार्वजनिक सत्यापन लेनदेन नहीं है, तो ब्लॉकचेन प्रोटोकॉल अर्थहीन होंगे।

 

उनका कोई मतलब ही नहीं होगा।

 

जबकि, इंटरनेट के साथ, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि नेटवर्क पर और कौन है,

 

जब तक कि प्रत्येक व्यक्ति अपने संबंधित पक्षों के साथ संवाद करने में सक्षम है।

 

दूसरा, ब्लॉकचेन और इंटरनेट के प्रकट होने का तरीका भी अलग है।

 

इंटरनेट शिक्षाविदों द्वारा विकसित एक प्रोजेक्ट था। 

 

इंटरनेट पर पहला संदेश यूसीएलए और स्टैनफोर्ड रिसर्च लैब के बीच भेजा गया था। 

 

शिक्षा जगत से, इंटरनेट कॉर्पोरेट और सार्वजनिक दुनिया में आया।

 

हालाँकि, ब्लॉकचेन की शुरुआत अलग तरह से हुई।

 

 ब्लॉकचेन की शुरुआत बिटकॉइन के आने के बाद से बहुत तेजी से हुई। 

 

 

ब्लॉकचेन इसलिए अस्तित्व में आया था ताकि दो लोगों के बीच में  जानकारी का आदान प्रदान प्रमुख रूप से  हो सके।

Blockchain Technology के पीछे की Technology

इस तकनीक के पीछे कोई न कोई तकनीक शामिल है जो कुछ इस प्रकार है।

 

  1. गोपनीयता कुंजी क्रिप्टोग्राफ़ी:-

 

Privacy key cryptography याने कि गोपनीयता कुंजी क्रिप्टोग्राफ़ी

 

अब ये क्या नया चीज है चले इसके बारे में आसान भाषा में समझते है।

 

एक निजी कुंजी (Private key) एक बहुत बड़ी संख्या है जिसका उपयोग पासवर्ड के समान क्रिप्टोग्राफी में किया जाता है। 

 

निजी कुंजी का उपयोग डिजिटल हस्ताक्षर बनाने के लिए किया जाता है ,

जिसे आसानी से सत्यापित किया जा सकता है, बिना निजी कुंजी को प्रकट किए। 

 

एक ब्लॉकचेन पते के स्वामित्व को दिखाने के लिए क्रिप्टोक्यूरेंसी लेनदेन में निजी कुंजी का भी उपयोग किया जाता है।

 

  1. P2P नेटवर्क

पीयर टू पीयर नेटवर्क को उन उपकरणों के समूह के रूप में परिभाषित किया गया है जो एक नेटवर्क बनाने के लिए एक साथ जुड़े हुए हैं,

जिसे अक्सर पीयर टू पीयर नेटवर्क (पी 2 पी) नेटवर्क के रूप में जाना जाता है।

 

एक बार नेटवर्क बन जाने के बाद, फ़ाइलों को साझा करने और उन्हें स्टोर करने के लिए भी उपयोग किया जा सकता है। 

 

किसी भी पीयर-टू-पीयर नेटवर्क में, सभी नोड्स में आम तौर पर समान शक्ति होती है और वे समान कार्यों का उपयोग कर सकते हैं।

 

P2P नेटवर्क की परिभाषा इस बात पर निर्भर करती है कि इसका उपयोग किस क्षेत्र में किया जाता है। 

 

आर्थिक क्षेत्र या तकनीकी के मामले में,

पी2पी नेटवर्क का मतलब एक वितरित नेटवर्क हो सकता है जहां सहकर्मी डिजिटल संपत्ति या क्रिप्टोकरेंसी का आदान-प्रदान कर सकते हैं।

 

यह साथियों, यानी, विक्रेताओं और खरीदारों को किसी भी बिचौलियों से गुजरने की आवश्यकता के बिना खरीदने या बेचने में सक्षम बनाता है।

 

बिचौलियों को हटाना यहां महत्वपूर्ण है। 

 

साथ ही, अलग-अलग पी2पी वातावरण या प्लेटफॉर्म प्रक्रिया में हस्तक्षेप किए बिना अपने साथियों को जोड़ते हैं।

 

  1. Program

क्रिप्टोग्राफी के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रोग्रामिंग भाषाएं · पायथन। 

 

 

क्रिप्टोग्राफी के निष्पादन याने की एक्सेक्यूटे करने के लिए अभी भी पायथन को प्राथमिकता दी जाती है।

हमें blockchain technology की क्यूँ जरुरत हैं?

Why we need Blockchain Technology

ब्लॉकचेन एक अविनाशी बहीखाता के रूप में कार्य करता है, जो पारदर्शिता को लागू करता है, और सेंसरशिप को दरकिनार (Bypasses cencorship) करता है। 

 

इसका उपयोग कई उद्योगों जैसे सप्लाई चैन , बीमा, स्वास्थ्य देखभाल, परिवहन और रसद (लोगिस्टिक ) , मतदान, कॉन्ट्रैक्ट मैनेजमेंट , आदि में किया जा सकता है।

 

इसका उपयोग अक्सर केंद्रीकृत तृतीय-पक्ष से बचने के लिए किया जाता है जो आमतौर पर प्रक्रिया को महंगा, अधिक जटिल और समय लेने वाला बना देता है।

Blockchain technology के applications इन

following areas में भविष्य में :

pplication of Bitcoin technology

 

  • मनी ट्रांसफर (Money Exchange)

  • वित्तीय एक्सचेंज (Financial Exchange)

  • उधार देना (Lending)

  • बीमा (Insurance)

  • रियल एस्टेट (Real Estate)

  • सुरक्षित व्यक्तिगत जानकारी (Secure personal information)

  • मतदान (Voting)

  • सरकारी लाभ (Government benefits)

  • चिकित्सा जानकारी सुरक्षित रूप से साझा करें (Securely share medical information)

  • आर्टिस्ट रॉयल्टी (Artist royalties)

  • अपूरणीय टोकन (Non-fungible tokens)

  • लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन ट्रैकिंग (Logistics and supply chain tracking)

  • सुरक्षित इंटरनेट ऑफ थिंग्स नेटवर्क (Secure Internet of Things networks)

  • डेटा भंडारण (Data storage)

  • जुआ (Gambling)

Real-life Applications Blockchain Technology का

 

  • डिजिटल आईडी

  • स्वास्थ्य देखभाल

  • वसीयत या विरासत

  • खाद्य सुरक्षा

  • डिजिटल वोटिंग

  • डेटा साझा करना

  • हथियार ट्रैकिंग

  • कॉपीराइट और रॉयल्टी सुरक्षा

Public और Private Blockchains क्या है

और इनमें क्या अंतर है

  • Access :- 

 

  Private ब्लॉकचेन के पास यह पहचानने के लिए एक प्राधिकरण योजना है कि कौन सा प्रतिभागी/उपयोगकर्ता मंच में प्रवेश कर रहा है। 

 

इस प्रकार, केवल चयनित सदस्यों के पास ही नेटवर्क तक पहुंच है।

 

दूसरी ओर, Public ब्लॉकचेन सिस्टम में, कोई भी शामिल हो सकता है। 

 

जब भागीदारी की बात आती है तो कोई प्रतिबंध नहीं है।

 

  • आम सहमति :-

 

एक निजी ब्लॉकचेन में, यह पहले से तय किया जाता है कि सर्वसम्मति में कौन शामिल हो सकता है और कौन पात्र नहीं है। 

 

दूसरी ओर, सार्वजनिक ब्लॉकचेन में, प्रतिभागी भाग लेने के लिए स्वतंत्र हैं, सिस्टम से लाभ प्राप्त कर सकते हैं;

 

 सर्वसम्मति प्रक्रिया में शामिल होने पर कोई प्रतिबंध नहीं है।

 

  • लेन-देन की गति :-

 

केवल अधिकृत प्रतिभागी ही लेन-देन प्रक्रिया में प्रवेश कर सकते हैं और उसमें भाग ले सकते हैं। 

 

इसलिए गति हमेशा एक समान रहती है। 

 

हालांकि सार्वजनिक ब्लॉकचेन में, कोई भी व्यक्ति लेनदेन/रिकॉर्ड तक पहुंच और अनुरोध कर सकता है। 

 

चूंकि बहुत सारे उपयोगकर्ता कई लेनदेन का अनुरोध कर रहे हैं। 

 

इसलिए प्लेटफॉर्म को प्रत्येक अनुरोध को संसाधित करने में समय लगता है और इसलिए, नेटवर्क की गति धीमी है।

Blockchain Technology –

इसके opportunities और advantages

 

  1. ट्रस्ट

  2. विकेंद्रीकृत संरचना (Decentralised structure)

  3. बेहतर सुरक्षा और गोपनीयता

  4. कम लागत

  5. स्पीड

  6. दृश्यता और ट्रैसेबिलिटी (Visiability and Trustability)

  7. अपरिवर्तनीयता (Immutability)

  8. डेटा का व्यक्तिगत नियंत्रण

  9. टोकनाइजेशन

  10. नवाचार (Innovation)

Blockchain Technology –

इसके Criticisms और Challenges

 

  1. ब्लॉकचेन एक वितरित कंप्यूटिंग सिस्टम नहीं है

  2. मापनीयता (Scalability) एक मुद्दा है

  3. कुछ ब्लॉकचेन समाधान बहुत अधिक ऊर्जा की खपत करते हैं

  4. ब्लॉकचेन वापस नहीं जा सकता – डेटा अपरिवर्तनीय है

  5. ब्लॉकचेन कभी-कभी अक्षम होते हैं

  6. पूरी तरह से सुरक्षित नहीं

  7. उपयोगकर्ता अपने स्वयं के बैंक हैं: निजी कुंजी

  8. लागत और कार्यान्वयन (Implementation) संघर्ष

  9. विशेषज्ञता ज्ञान (Expertise Knowledge)

  10. परिपक्वता (Maturity)

शिवम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *